Jadaun Caste: जादौन किस जाति में आते हैं और इनका इतिहास क्या है?

जादौन उत्तर भारत और पाकिस्तान में पाए जाने वाले चंद्रवंशी (यदुवंशी) राजपूतों का एक वंश है। जादौन राजपूत भगवान श्री कृष्ण के वंश से है हमने आपको नीचे पूरे विस्तार से इनकी उत्पत्ति, इनकी आबादी, और कुलदेवी के बारे में बताया हुआ है.

जादौन राजपूतों को मुस्लिम आक्रांताओं का कट्टर दुश्मन माना जाता था, इन्होंने कभी किसी शासक के सामने आत्मसमर्पण नहीं किया और हमेशा युद्ध के मैदान में क्षत्रिय धर्म का पालन किया विजय या वीरगति।

जादौन राजपूत वंश कहां से शुरू हुआ?

पुराणों के मुताबिक, आदिकालीन ऋषि अत्रि के वंशज सोम की संपत्ति (सोमवंशी ) चंद्रवंशी कहलाये। इस वंश के छठे चंद्रवंशी राजा ययाति के पुत्र चंद्रवंशी राजा यदु के वंशज “यदुवंशी” कहलाये। यदुवंश की 39वी पीढ़ी में श्री कृष्णा हुए और वही श्री कृष्णा से 88वी पीढ़ी के राजा भाटी अंतिम यदुवंशी शासक हुए।

नोट- इन्दु और सोम संस्कृत में चन्द्र के पर्यायवाची है.. इसलिए चन्द्र-वंश , सोम-वंश अथवा इन्दु-वंश किसी भी शब्द का प्रयोग किया जा सकता है.

अंतिम यदुवंशी शासक से अभिप्राय यह कि राजा भाटी के बाद यदुवंश यादों, भाटी, जाडेजा और चुडासमा उपशाखाओ से जाना गया। यादों से जादों और फिर जादौन, इस प्रकार यदुवंश में भाटी, जादौन, जाडेजा और चुडासमा (जाडेजा और चुडासमा गुजरात में सबसे ज्यादा है) राजपूत वंश चले। वर्तमान में करोली (राजस्थान) यदुवंशी जादौन राजपूतो की सबसे बड़ी रियासत है, जिसकी स्थापना 13वी शताब्दी में हुयी थी।

करोली राजघराने से आकर ठाकुर छतरभुज सिंह जी ने उत्तर प्रदेश के एटा जिले में अवागढ़ जागीर वसाई। उत्तरप्रदेश में बसे ज्यादातर जादौन करोली से आये अपने पूर्वजो की संतान है।

महाराष्ट्र में पाए जानेवाले जाधव मराठा क्षत्रिय भी करोली (राजस्थान) से निकले जादौन राजपूतो की ही एक शाखा है।

yaduvanshi-jadaun-rajput

जादौन राजपूतों की आबादी किस क्षेत्र में है?

जादौन राजपूतों की आबादी विशेष रूप से उत्तर भारत और मध्य भारत में फैली हुई पाई जाती है खासतौर पर पश्चिम राजस्थान, पश्चिम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में।

जादौन राजपूतो के ठिकाने उत्तर प्रदेश में: जादौन राजपूत पश्चिमी उत्तर प्रदेश में राजपूतों की सबसे बड़ी खाप में से एक है अवागढ़, मिश्रा, गभाना तहसील पूरी जादौन राजपूतो की है खुर्जा से लेकर टूंडला, हाथरस तक जादौन ही है।

जिला बुलंदशहर में भी जादौन राजपूतो के लगभग 100-150 गांव है। अलीगढ जिले में लगभग 80-100 गाँव है। कोटला ,रहिहाबाद , शमशाबाद (आगरा ), मुसफाबाद ,घिरौर (मैनपुरी) , सिरसागंज (फिरोजाबाद ) ,सिरसागंज और शिकोहाबाद क्षेत्र के आस-पास लगभग 84 गाँव में जादौन राजपूतो की बहुतायत है। फिरोजाबाद जिले में और भी गाँव है जहा जादौन राजपूतो के ठिकाने है। छाता (मथुरा), अडीग (मथुरा), कौल, हसनगढ़, अकबराबाद, सिकदाराराम , खैर, किरावली, जेवर-खुर्जा रोड (बुलन्दशहर) में लगभग 100-150 गाँव ऐसे है जहा जादौन राजपूत बहुतायत में है। आदि उत्तरप्रदेश में जादौन राजपूतो के ठिकाने है। इस प्रकार पश्चिम उत्तरप्रदेश में लगभग 400-450 गाँव जादौन राजपूतो के है

भिंड और मुरैना मध्यप्रदेश में भी जादौन के लगभग 30 गाँव है। कुछ के नाम यहाँ उपलब्ध है – मुरैना में चचिहा ,धमकन,अटा, कीरतपुर, सुमावली, नरहेला, बुरावली,शहदपुर, बडोना, बांसी, गढ़ी ,हथरिया ,घुरघान, केमरा।

मुरैना के पास सबलगढ़ में हीरापुर गाँव के आसपास बहुतायत में जादौन राजपूत बसे है। लगभग 50 गाँव है। भिंड में सोंधा, मानपुरा, चंदपुरा, विजयपुरा, जेतपुरा, रसनोल, पीपरपुरा, बिरखड़ी, अटर तहसील में उडोतगढ़.

करोली जिले में जादौ पट्टी में 37 जादौन के ठिकाने है। राजस्थान के धोलपुर और भरतपुर के डीग में 15-20 गाँव है।

जादौन राजपूत वंश की कुलदेवी का क्या नाम है?

Kaila-devi

जादौन राजपूत वंश की कुलदेवी का नाम कैला देवी है.

FAQ

जादौन किस जाति में आते हैं?

जादौन राजपूत जाति में आते हैं जोकि चंद्रवंश की शाखा है जादौन राजपूतों को यदुवंशी क्षत्रिय कहा जाता है.

क्या भरतपुर राजघराने का निकास करौली के जादौन राजपूतों से हुआ है?

हां, भरतपुर राजवंश अपनी उत्पत्ति करौली के जादौन राज परिवार से मानता है और भरतपुर राजघराना भी भगवान श्री कृष्ण के वंशजों में से एक है.

क्या जादौन अहीर जाति में आते हैं?

नहीं, जादौन का अहीर जाति से कोई लेना देना नहीं है जादौन वंश शुद्ध छत्रिय वंश है जबकि अहीर जाति एक घुमंतू, चारवाह और पशुपालक जाति है।

जादौन राजपूतों की आबादी किस राज्य में पाई जाती है?

जादौन राजपूतों की आबादी पश्चिम  राजस्थान, पश्चिम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में पाई जाती है।

यह जानकारी हमने विभिन्न स्रोतों से इकट्ठे की है और हमने पुख्ता जानकारी आप तक पहुंचाने की पूरी कोशिश की है अगर आप कोई हमें सुझाव देना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके सुझाव दे सकते हैं और अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आई हो तो इस जानकारी को आगे शेयर करना बिल्कुल भी ना भूले।

12 thoughts on “Jadaun Caste: जादौन किस जाति में आते हैं और इनका इतिहास क्या है?”

  1. Jake bhai pahle वेद पुराण ग्रंथ padh pata chal jayega krishna ji ka vanshaj ahir Yadav gop gwal h mtlb kuch bhi bolte ho yrr tum log tum log ko वेद पुराण ग्रंथ padhne ka zaroorat h usmain vasudev aur nandaba ko saaf saaf gop gwal ahir Yadav bola gya h aur woo dono chachera bhai the Jake padho 🤣🤣🤣🤣lol mtlb kuch bhi bolte ho ao main proof deta h ved puran se

    Reply
    • Abe jake tu pura. Padh Google se dekh ke kya bol rha Shri Krishna jadaun k yaha peda hue the aur yadav ke yaha pale the

      Reply
    • मध्यप्रदेश के गुना जिले में भी कुछ गांव है जिसमे , जामनेर , खेड़ली मैदानी ,मोतीपुर डोंगर , मलिया खेड़ी , तोरई, नलखेड़ा, मंत , परबरिया ,बारोद,बुडना, आदि गांव हैं जिसमें जादौन निवासरत हैं , इनको भी सूची शामिल किया जाए

      Reply
  2. उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जिला में
    ग्राम – दुर्गापुर
    में जादौन राजपूत है उनका भी पता इस लिस्ट में शामिल किया जाए

    Reply
  3. Jadoun mostly not rajput in braj region fallow low caste system jadoun jadoun me Sadi karte hai 90% rajput nahi hote low caste 🤥 system ahir me 3 division hai 💪 yaduvansh gopvans nandvansh Inka samband krishnakul se hai yadav kuch time se jada prachalan me aa gaya. kisi ko badnam mat karo ham ahir hai charu rao yaduvanshi tijara king 👑 7 sadi raja tha me tab karoli ka namonisan nahi tha. Digpal ahir 👑 king mathura jisaki putri ki sadi mewar ke rana katira se huyi thi bad me katira ne mathura ke bade kshetr mahaban jalesar par kabja kar liya ahir yadav braj me ahirwal me 30 estate tha jo pahale riyasat thi 💪 upsc ke Anushar andhak vrishni abhira hi yaduvabshi log tha jinhone purohito bramano ko respect nahi kiya unki pauranik virasat unsave kar diya jata tha milavat karke mlech bana diya jata tha. Rajputo ke sath bhi Aisa hai rajput ko videshi bataya jata hun jinhone muslim akraman se pahale gupt kal me 5 Sadi me bharat par akraman kiya tha 🧐angnivans ko sudhikaran ki ghatana ke rup me dekha jata hai jinhone bad me suryavanhi chandravanshi bhi ban gaye Sri ram srikrishna se vans ka dawa karane lage suryavanhi chandravanshi manayata di jati thi trible ko hai moon 🌙and 🌞 sun se ensan nahi paida hote yadavas is mythology of abhira orgin Aaj bhi krisna jude vans mitak ahir me hai jaise yaduvanshi gopvanshi nandvanshi krishnaut. E.t.c Chandra 1 upgrah hai surya1 1 Tara hai hydrogen gash se bana hai jisase ensan nahi paida hote 🧐 tribles ko ahir manyata di jati thi 💪 rajput jadatar huns videsi mlech hai 80 prasenta 20 prasent Indians jo alag alag jati ha jadoun jadatar ahir type caste hai 90 prasent rajput nahi hote dusare rajput bhi Sadi karte jadoun me lekin akhilesh yadav ki sadi dymple se ho jo rajput hai agar Paisa power ho rajput ahir me Sadi kar leta hai. Danyawad.

    Reply
    • History of jadauns
      Jadauns are the descendants of King Yayati’s son Yadu. According to the Puranas, King Yayati had two wives, Sharmishtha and Devyani. Devyani was the daughter of Asura Guru Shukracharya.Yadu was the son of Yayati and Devyani. The Yaduvanshi are the descendents of Yadu. In Sanskrit Yaduvanshi means the family of Yadu.

      They also occupied forts of Bijai Garh, built by Pundir Rajputs, at Bayana and Timan Garh near Karauli. Jadons are among the 36 Royal Clans of Rajputs, They are of Chandravanshi lineage and Kuldevi of Jadon’s is Keladevi at Karauli (Rajasthan). In Rajasthan, the Jadon are found in Karauli, Bharatpur, Jaipur and Jaisalmer.The 600 year old Karauli City Palace was built probably in the 14th century by the royal family and a magnificent city palace in 1635 AD. The fort and the city palace remains the official residence of the royal family of Karauli till 1938 AD. At that time a much more modern Bhanwar Vilas palace was built by Maharaja Ganesh pal Deo Bhadur.

      Reply
  4. Ahir ke andar yaduvansi ahir nandvashi ahir gwals sakha vibhakt hai 💪upsc me bhi padhaya jata hai abhira ke tribles God Krishna ji the andhak vrishni satvat abhira hi yaduvanshi se sambandhit vans hai 😡
    Nandvanshi ahir mp braj me paye jate hai
    Yaduvanshi ahir gujrat kathiawad dwarika side aur braj pure ahirwal alwar alwar tijara hariyan kuch gav mp up me bhi hai 💪
    Gopvanshi ahir mostly purv up bihar kuch sankya nepal me paye jate hai sabhi abhira hai .

    Reply

Leave a Comment